रासायनिक अभिक्रायाएं एवं समिकरन Class 10th Science Chapter-1 Ncert

रासायनिक अभिक्रायाएं एवं समिकरन Class 10th Science Chapter-1 Ncert  Qution Answer




1.नीचे दी गयी अभिक्रिया के सबन्ध के में कौन-सा कथन असत्य है? 2PbO (s) + C (s)→ 2Pb (s) + CO2 (g)
(A)सीसा अपचयित हो रहा है। 
(B)CO2 उपचयित हो रहा है। 
(C)कार्बन उपचयित हो रहा है। 
(D)CO2 अपचयित हो रहा है। 

Ans-कार्बन उपचयित हो रहा है। 

2.Fe2O3 + 2AlO3 + 2Fe दी गयी अभिक्रिया किस प्रकार की है। 
(A)संयोजन अभिक्रिया 
(B)द्विविस्थापन अभिक्रिया
(C)वियोजन अभिक्रिया
(D)विस्थापन अभिक्रिया

Ans-विस्थापन अभिक्रिया

3.लौह-चूर्ण पर तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल डालने से क्या होता है? 
(A)हाइड्रोजन गैस एवं आयरन क्लोराइड बनता है। 
(B)क्लोरीन गैस एवं आयरन हाइड्रोऑक्साइड बनता है। 
(C)की अभिक्रिया नहीं होती है। 
(D)आयरन लवण एवं जल बनता है। 

Ans-हाइड्रोजन गैस एवं आयरन क्लोराइड बनता है। 

4.संतुलित रासायनिक समिकरण क्या है?
Ans-ऐसा रासायनिक समिकरण जिसमें तीर के निशान के बाई ओर दाई ओर के तत्वों के परमाणुओं की संख्या समान हो संतुलित रासायनिक समिकरन कहलाता है।

5.रासायनिक समिकरण को संतुलित क्यों किया जाता है? 
Ans-रासायनिक समिकरण का संतुलन द्रव्यमान की अनश्वरता के नियम पर आधारित होता है जिसके अनुसार, समान्य रासायनिक अभिक्रिया में पदार्थ का न तो निर्माण होता है, और न उसका नाश। दूसरे शब्दों में, परमाणु अपना साथी बदलकर अन्य पदार्थ वना सकते है किंतु परमाणु विलुप्त नहीं होते तथा किसी नए परमाणु का निर्माण भी नहीं होता है, अर्थात किसी रासायनिक अभिक्रिया में परमाणु संरक्षित रहते है। 

6.रासायनिक समिकरण से प्राप्त होने वाली सूचनाएं। 
Ans-किसी रासायनिक समिकरण से हमें निम्नलिखीत सूचनाएं प्राप्त होती है। 
(i)यह अभिकारकों एवं प्रतिफलों के संकेत/सूत्र की जानकारी देता हैं। 
(ii)यह बताता है कि अभिक्रिया में कौन-कौन-से पदार्थ भाग ले रहे है और अभिक्रिया के फास्वरुप कौन-कौन-से  पदार्थो का निर्माण होता है। 
(iii)संपूर्ण विश्व में एक ही प्रकार के रासायनिक संकेतों का उपयोग होता है, अत: वैज्ञानकों को रासायनिक समिकरण की जानकारी प्राप्त करने में किसी भी प्रकार की कठनाई नहीं होती है। 

7.रासायनिक समिकरण के उपयोग के लाभ-
Ans-(i)किसी भी रासायनिक अभिक्रिया का समिकरण के रूप में निरूपण आसान होता है इससे समय की बचत होती है तथा लिखने के लिए कागज पर कम स्थान की अवश्यकता होती। 
(ii)रासायनिक समिकरण की सहायता से प्रतिफल की एक निश्चित मात्रा के निर्माण के लिए आवश्यक अभिकारकों के द्रव्यमानों की गणना ठीक-ठीक की जा सकती है। 
(iii)संपूर्ण विश्व में एक ही प्रकार के रासायनिक संकेतों का उपयोग होता है। अत: वैज्ञानिकों को रासायनिक समिकरण की जानकारी प्राप्त करने में किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं होती है। 

8.आप कैसे प्रदर्शित करेंगे कि कॉपर सिल्वर से अधिक क्रियाशील होता है। 
Ans-जब कॉपर (ताम्बा) के एक प्लेट को सिल्वर नाइट्रेट के जलीय विलियन में डाला जाता है तब सिल्वर कॉपर द्वारा विस्थापित हो जाता हैं। Cu + 2AgNO3 → Cu(NO3)2+ 2Ag इससे सिध्द होता है कि सिल्वर की तुलना में कॉपर अधिक क्रियाशील होता है। 

9.ऑक्सीकरण-अवकरण अभिक्रियाएं क्या है। 
Ans-ऑक्सीकरण एवं अभिक्रियाएं (Oxidation reduction reactions) एक विशेष प्रकार की रासायनिक  अभिक्रियाएं (redox reactions) भी कहलाती है। 

10.उदाहरण सहित किसी अवक्षेपण अभिक्रियाँ का वर्णन करें? 
Ans-कुछ ऐसी रासायनिक अभिक्रियाएं होती हैं जिनमें कीई प्रतिफल ठोस के रूप में विलयन से पृथक हो जाता है। ऐसी अभिक्रिया अवक्षेपन (Precipitation reactios) कहलाती है। पृथक होनेवाला ठोस पदार्थ अवक्षेप Precipitate कहलाता है। सोडियम क्लोराइड के विलयन और सिल्वर नाइट्रेट के विलयन के बीच होनेवाली उभय-विस्थापन अभिक्रिया (double displacement) में सिल्वर क्लोराइड अवक्षेप के रूप में प्राप्त होता है। NaCl + AgNO 3 → AgCl + NaNO 3 

हमारें इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको इससे कोई मदत मिली हो तो कमेंट जरूर करें और साथ ही अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। 

1 Comments

  1. Casino.com - Mapyro
    Find Casinos 속초 출장마사지 near หาเงินออนไลน์ you and within driving distance of 창원 출장샵 casinos & other places to stay, walk, and play. 대구광역 출장마사지 Mapyro Casino has 604 slots, over 300 table games and a 제주도 출장안마

    ReplyDelete
Previous Post Next Post

Offered

Offered