प्राकृतक परिघटनाए Natural Phenomena Class 8th Science Chapter-15 Ncert

प्राकृतक परिघटनाए Natural Phenomena Class 8th Science Chapter-15 Ncert

इस अध्याय के सभी महत्वपूर्ण बहुविकल्पी प्रश्न-उत्तर का हल दिया गया है। वार्षिक परीक्षा में शामिल होने से पहले इन प्रश्नों की तैयारी अवश्य कर लें। हमारा वेबसाइट नॉट एनo सीo ईo आरo टी में कक्षा आठ के सभी विषयों के प्रश्न उत्तर उपलब्ध है तथा इन सब को तैयार करते समय बहुत सावधानी बरती गई है फिर भी पुस्तक का सहारा अवश्य लें क्योंकि यहां पर उपलब्ध जानकारी से किसी भी प्रकार की हनी के लिए इस वेबसाइट के कर्ता-धर्ता जिम्मेदार नहीं होंगे।

1.सही कथनों को चिह्नित कीजिए-

(i)सामान प्राकृति के आवेश एक दूसरे को आकर्षित करते हैं।(X
(ii)आवेशित काँच की छड़ अल्युमिनियम के दो पत्तियों को प्रतिकर्षित करती है।(
(iii)तड़ित चालक किसी भवन को तड़ित से सुरक्षा के लिए लगाया जाता है।(
(iv)भूकंप की भविष्यवाणी की जा सकती है।(X

2.सही उत्तर का चयन कीजिए:-

(i)निमनलिखि में से किसे रगड़ने से आसानी से आवेशित नहीं किया जा सकता है? 
A.तांबे की छड़
B.प्लास्टिक पैमाना
C.ऊनी वस्त्र 
D.फुला हुआ गुब्बारा

Ans-तांबे की छड़

(ii)आवेश कितने प्रकार के होते हैं? 
A.एक
B.दो
C.तीन
D.चार 

Ans-दो

(iii)विपरीत आवेशों के बीच होता है-
A.आकर्षण
B.प्रतिकर्षण
C.आकर्षण एवं प्रतिकर्षण 
D.इनमें से कोई नहीं

Ans-आकर्षण

(iv)काँच को रेशम से रगड़ने पर रेशम और काँच में उत्पन्न होता है-
A.समान आवेश 
B.असमान आवेश
C.कोई आवेश नहीं
D.कहा नहीं जा सकता

Ans-असमान आवेश

3.जब किसी आवेशित वस्तु को हाथ से छुआ जाता है तो वह अपना आवेश खो देती हैं, क्यों? 

Ans-हम जानते है कि हमारा शरीर विधुत आवेशों का चालान करता है। अत: जब हम किसी आवेशित वस्तु को हाथ से छूते हैं तो उस वस्तु से होते हुआ पृथ्वी में इस स्थिति में आविशित वस्तु हमारा शरीर तथा पृथ्वी एक ही वस्तु के रूप में कार्य करते है। पृथ्वी इस आवेश को आविशित कर लेता है। इस प्रकार वह वस्तु अपने आवेश को खो देती है।

4.स्वेटर को अपने शरीर से उतारने पर चट-चट की ध्वनि सुनाई देती है, क्यों? 

Ans-स्वेटर में उपस्थित रेशे अन्दर के कपड़ों के साथ घर्षण करते हैं, जिससे ये रेशे आवेशित हो जाते है।यही कारण है कि सर्दियों में स्वेटर उतारते समय चट-चट की ध्वनि सुनाई देती है। 

5.भूकंप से अपनी सुरक्षा के तीन उपाय सुझाइए। 

Ans-तड़ित से अपनी सुरक्षा के उपाय निम्नांकित हैं-(i)यदि आप किसी ऐसे खुले क्षेत्र में हैं जहाँ कीई शरण स्थल नहीं है तो सभी वृक्षों से काफी दूरी पर खड़े रहें। 
(ii)घर पर कम्पूटर टी० वी आदि विधुत उपकरणों के प्लगों को सॉकेट से निकाल देना चाहिए। 
(iii)घरों के साथ तड़ित चालक लगाएं। 

6.भारत के उन तीन राज्यों की सूची बनाइए जहाँ भूकंपों के झटके की संभावना अधिक रहती है।? 

Ans-भारत के तीन अति भूकंप आशंकित राज्य हैं।उत्राखण्ड, जम्मू एवं कश्मीर तथा गुजरात। 

7.तड़ित के समय हमें कौन-सी सावधानियां बरतनी चाहिए? 

तड़ित एवं गरजवाले तूफान के समय कोई भी खुला स्थान सुरक्षित नहीं है। गरज सुनने के साथ ही सुरक्षित स्थान पर चले जाना चाहिए। अंतिम गर्जन सुनने के बाद सुरक्षित स्थान से तुरंत बाहर नहीं निकलना चाहिए, बल्कि कुछ देर प्रतिक्षा करनी चाहिए। 

सुरक्षित स्थान का पता लगाना-
(i)कम ऊँचाई का मकान अथवा भवन सुरक्षित है। 
(ii)यदि आप बस, कार अथवा रेलगाड़ी द्वारा यात्रा कर रहे हैं तो वाहन की खिड़कियाँ तथा दरवाजे को बंद कर देनें पर आप सुरक्षित हैं। 

घर के बाहर-
(i)खुले मैदान, ऊँचे वृक्ष, ऊँचे स्थान पार्क में तड़ित झंझा के समय रहना सुरक्षित नहीं है। 
(ii)मोटरसाईकिल, खुली कार, ट्रेक्टर आदि खुले वाहन तड़ित झंझा के समय सुरक्षित नहीं हैं। 
(iii)जंगल में छोटे वृक्ष के नीचे शरण लेना सुरक्षित है। 
(iv)खुले मैदान में पेड़ से काफी दूर पर खड़े रहें। 
(v)जमीन पर न लेटें बल्कि जमीन पर सिमटकर इस प्रकार बैंठ ताकि आपका हाथ घुटना पर हो तथा सिर हाथों के बिच रखें। 

घर के अंदर-
(i)विधुत उपकरणों जैसे-टेलीविजन, कम्पूटर के प्लगों को सॉकेट से निकाल देना चाहिए। 
(ii)टेलीफोन के तारों विधुत तारों और धातु के छड़ अथवा पाइप को तड़ित झंझा के समय स्पर्श नहीं करना चाहिए। 
(iii)बहते जल में स्नान नहीं करना चाहिए। 
(iv)विधुत बल्ब एवं ट्यूबलाइट का उपयोग किया जाना चाहिए। 

8.भूकंप लेखी क्या है? चित्र सहित वर्णन किजिए। 


Ans-भूकंप लेखी पृथ्वी की सतह पर तरंगें उत्पन्न करते हैं। इन तरंगों को भूकम्पी तरंगें कहते हैं। इन्हें भूकंप लेखी उपकारण द्वारा रिकार्ड किया जाता है। 

9.उस पैमाने का नाम लिखिए जिस पर भूकम्पों की निशानी ऊर्जा मापी जा सकती है। इस पैमाने पर किसी भूकम्प की माप 3 है। क्या इसे भूकम्पलेखी (सीसमोग्राफी) से रिकॉर्ड किया जा सकेगा क्या इससे अधिक हानि होगी। 

  • उस पैमाने का नाम रिक्टर पैमाना है जिससे भूकम्पों की विनाशी ऊर्जा मापी जाती है। 
  • हाँ, इसे भूकम्पलेखी या सीसमोग्राफी से रिकार्ड किया जा सकेगा। 
  • नहीं, इससे अधिक हानि नहीं होगी। 

10.आवेशित गुब्बारा दूसरे आवेशित गुब्बारे को प्रतिकर्षित करता है। जबकि आनावेशित गुब्बारा आवेशित गुब्बारे द्वारा आकर्षित किया जाता है। व्याख्या कीजिए। 

Ans-क्योंकि जातीय आवेशों में प्रतिकर्षित तथा विजातीय आवेशों में आकर्षिण होता है तथा साथ ही साथ अधिक आवेश वाली वस्तु कम आवेश वाली वस्तु को या तो अपनी ओर आकर्षित करेगी या अपने से दूर प्रतिकर्षित करेगी। 

हमारें इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको इससे कोई मदत मिली हो तो कमेंट जरूर करें और साथ ही अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। अगर आप मुझसे जुड़ना चाहते है तो निचे दिए गए link को follow जोर करें।

  • Facebook
  • Instagram
  • YouTube
  • Home

Post a Comment

Previous Post Next Post

Offered

Offered