छोटा जादूगर Class 8th Hindi Chapter-2 Ncert

छोटा जादूगर Class 8th Hindi Chapter-2 Ncert Question answer


निम्नांकित प्रश्नों के उत्तर लिखें-

1.मनुष्य की भीड़ से जाड़े की संध्या भी गरम हो रही थी। यह पंक्ति लेखक ने कि संदर्भ में लिखा है? 
उत्तर-लेखक ने यह पंक्ति कार्निवाल के मैदान में भारी संध्या में उमड़ी भीड़ को दर्शाने के लिए लिखा है। लोगों में कार्निवाल के प्रति गजब का उत्साह था। सब अपने तरीके से कार्निवाल का आनंद उठा रहे थे। जाड़े की संध्या अत्याधिक ठंडी होती है, किंतु मनुष्यों की भीड़ से ठंड दूर भाग रही थी और जाड़े की संध्या गरम हो रही थी। 

2.लेखक उस तेरह-चौदह वर्ष के लड़के को आश्चर्य से क्यों देखने लगा। 
उत्तर-लेखक उस तेरह-चौदह वर्ष के लड़के को आश्चर्य से  देखने लगा क्योंकि लड़के ने स्वावलंबन और मातृभक्ति की भावना दिखाई थी और लेखक से कहा था कि-तमाशा देखने नहीं दिखाने निकला है। कुछ पैसे ले जाऊंगा, तो माँ को पथ्य दूँगा। मुझे शरबत न पिलाकर आपने मेरा खेल देखकर मुझे कुछ दे दिया होता, तो मुझे अधिक प्रसन्नता होती। 

3.छुट्टियाँ बिताकर लेखक जब कलकत्ते से चला तो रास्ते में उसने क्या देखा? 
उत्तर-छुट्टियाँ बिताकर लेखक जब कलकत्ते से चला तो रास्ते में उसने देखा कि छोटे-जादूगर का रंगमंच सजा था। वहाँ बिल्ली रूठ रही थी भालू मनाने चला था, ब्याह की तैयारी थी, पर यह सब होते हुए भी जादूगर की वाणी में प्रसन्नता नहीं था। जब वह ओरों को हँसाने की चेष्टा कर रहा था, तब जैसे स्वयं काँप जाता था। मानों उसके रोएं रो रहे थे। लेखक के पूछने पर कि आज खेल जमा क्यों नहीं। उसने कहा कि माँ ने कहा है कि आज तुरंत चले आना। मेरी घड़ी समीप है। 

4.कहानी में लेखक ने छोटे जादूगर के लिए क्या-क्या किया? 
उत्तर-कहानी में लेखक ने छोटा जादूगर को शरबत पिनेवालों को देखते हुए पाया था। लेखक के मन में छोटे जादूगर के प्रति जो संवेदना थी उसे उसने कहानी के अंत तक निभाया। सर्वप्रथम उसने छोटे जादूगर को कार्निवाल का आनंद मित्रवत उठाने में मदद की। उसे शरबत पिलाया। बातों-बातों में घर-परिवार की जानकारी ले ली। निशानेबाजी में हिस्सा लेने में मदद किया, जिसके कारण छोटे जादूगर के पास तमाशा दिखाना हेतु सामग्रियों की व्यवस्था हो सकी। बालक सचमुच छोटा जादूगर बन गया। 

5.छोटा जादूगर एक तेरह-चौदह वर्ष का स्वाभिमानी, देशभक्त और मातृभक्त लड़का था। उसके पिता देश के लिए जेल में थे। वह भी देश के लिए पिता की तरह ही जेल जाना चाहता था किंतु घर में उसकी माँ बीमार थी। अपनी माँ की बीमारी की वजह से वह जेल नहीं गया और माँ के लिए मेहनत करके कुछ कमाना चाहता है ताकि अपनी माँ की देखभाल भी कर ले और अपने पैसे पर खड़ा भी हो जाए। 

6.छोटा जादूगर के चरित्र की विशेषताओं को लिखें। 
उत्तर-छोटा जादूगर के चरित्र की विशेषताएं है-
(क)स्वावलम्बी-वह स्वयं तमाशा दिखाने के लिए उत्सुक करता है। 
(ख)मातृभक्त-बिमार माता की सेवा के लिए कठिन परिश्रम करता है। 
(ग)देशभक्त-उसके पिता देश के लिए जेल में है। इस बात का तो उसे गर्व है ही, वह स्वयं भी देश के लिए जेल जाने के लिए उत्सुक था। 
(घ)साहसी-स्वयं का व्यवसाय अपनाकर वह दुनिया के समक्ष साहस का उदाहरण पेश करता है। 

 हमारें इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको इससे कोई मदत मिली हो तो कमेंट जरूर करें और साथ ही अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें।

Post a Comment

Previous Post Next Post

Offered

Offered