अमरुद का पेड़ Class 8th Hindi Chapter-8 Ncert

अमरुद का पेड़ Class 8th Hindi Chapter-8 Ncert Question answer

निम्नांकित प्रश्नों के उत्तर लिखें-

1.'लेखक को क्यों लगता है कि इन सब पिछड़े खयालातों का हमारे घर में गुजर नहीं हो सकेगा। 
उत्तर-अमरुद के पेड़ को देखकर सबसे पहले बाबू कन्हैयालाल की बूढ़ी पत्नी ने एक दिन टोका कि पश्चिम की तरह अगर मकान का मुखड़ा हो और सामने ही अमरुद का पेड़ तो राम-राम बड़ा अशुभ होता है और माँ के चेहरे पर थोड़ा-सा भय दिखा पर लेखक को विश्वास था कि इन सब पिछड़े खयालातों का हमारे घर में गुजर नहीं हो सकेगा। क्योंकि उसके घर के लोग आधुनिक विचारधारा के थे। उसकी माँ सत्याग्रह के दिनों में अजमेर में लम्बा जेल कर चुकी है। पिताजी खुद राजनैतिक-सामाजिक उदारता वाले आदमी थे। बुआ ने विवाह नहीं किया था, पढ़ने-लिखने में ही अपनी सम्पूर्ण जिंदगी लगा दी और समाज कोई चुनौती का साहस नहीं कर सका। साथ ही परिवार के सभी लोगों में पिछड़ेपन के प्रति भत्र्सना का भाव था। 

2.अमरुद के पेड़ की छाया किस प्रकार लेखक को उनके भाई-बहनों के साथ जोड़ती है।
उत्तर-अमरुद के पेड़ की छाया लेखक को उसके भाई-बहनों के साथ जोड़ती है। वे सभी अमरुद की छाया में बेत की कुर्सियों पर बैठे चर्चाएं करते थे जिससे उनके बीच उम्र का फर्क मिट जाता था और दोस्ताना व्यवहार पनपा था। 

3.लेखक अपने घर वापस जाकर उदासी का अनुभव क्यों करता है? 
उत्तर-लेखक अपने घर वापस जाकर उदासी का अनुभव करता है क्योंकि अमरुद का पेड़ कट चुका था और अब लेखक और उसके भाई-बहन जिंदगी की बुलंदी की ओर बढ़ रहे थे। तब लेखक की माँ को रूढ़ि और अशुभ के मिथ्या भाव ने पराजित कर दिया था। लेखक के प्रति बड़ों में कोई स्वागत भाव भी नहीं था। 

4.लेखक की माँ अमरुद के पेड़ के लगे रहने का क्या दुष्परिणाम मानती थी? 
उत्तर-लेखक की माँ का नाम यह मान बैठा था कि बड़ी बहू की अलगाव-भावना, सबसे छोटे का निठल्लापन खुद उनकी बीमारी और लोगों का धंधे से बिखर जाना और कुछ नहीं है बहुत दिनों तक दरवाजे पर उसी अमरुद के पेड़ के लगे रहने का दुष्परिणाम है जिसे काफी पहले ही लोगों ने अशुभ बताया था। 

5.लेखक को मिद्दू का क्षोभ क्यों अच्छा लगा? 
उत्तर-लेखक को मिद्दू का क्षोभ इसलिए अच्छा लगा कि यह क्षोभ वर्तमान सामाजिक परिस्थियों में निहायत जरूरी है और क्योंकि यह जीवन का परिष्कार करता है, बशर्ते इस क्षोभ का संस्कार हो और उसे स्वयं पोसा तथा सहा भी जा सके। 

6.आश्य स्पष्ट करें-
सूरज पिछवाड़े के पीपल के ऊपर आ रहा था और जहाँ अमरुद का पेड़ था वहाँ धूप का एक चक्ता तेजी से बड़ा होता दिख पड़ा। 
उत्तर-इस पंक्ति के माध्यम से लेखक कहना चाहता है कि जहाँ पर कभी अमरुद का पेड़ अपनी छाया से शीतलता तो समाप्त हो ही गई है धूप अपने बिकराल रूप से वातावरण को गर्म कर रही हैं। 

हमारें इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको इससे कोई मदत मिली हो तो कमेंट जरूर करें और साथ ही अपने दोस्तों के साथ शेयर भी जरूर करें। 

Post a Comment

Previous Post Next Post

Offered

Offered