बूढ़ी पृथ्वी का दुख Class 8th Hindi Chapter-14 Ncert

बूढ़ी पृथ्वी का दुख Class 8th Hindi Chapter-14 Ncert Question answer

इस अध्याय के सभी महत्वपूर्ण बहुविकल्पी प्रश्न-उत्तर का हल दिया गया है। वार्षिक परीक्षा में शामिल होने से पहले इन प्रश्नों की तैयारी अवश्य कर लें। हमारा वेबसाइट नॉट एनo सीo ईo आरo टी में कक्षा आठ के सभी विषयों के प्रश्न उत्तर उपलब्ध है तथा इन सब को तैयार करते समय बहुत सावधानी बरती गई है फिर भी पुस्तक का सहारा अवश्य लें क्योंकि यहां पर उपलब्ध जानकारी से किसी भी प्रकार की हनी के लिए इस वेबसाइट के कर्ता-धर्ता जिम्मेदार नहीं होंगे।

निम्नांकित प्रश्नों के उत्तर लिखें-

1.इस कविता में कवयित्री किससे प्रश्न पूछ रही है? 

उत्तर-इस कविता में कवयित्री पृथ्वी पर निवास कर रहे प्रत्येक व्यक्ति से प्रश्न पूछ रही है। 

2.पहाड़ का सीना क्यों दहलता है? 

उत्तर-पहाड़ का सीना पहाड़ को तोड़ने के लिए गए विस्फोटों से दहलता है। 

3.कवयित्री को किससे आदमी होने पर संदेश है? 

उत्तर-कवयित्री को पृथ्वी की चिंता न करने वाले लोगों के आदमी होने पर संदेह है। 

4.बूढ़ी पृथ्वी को किस बात का दुख है? 

उत्तर-बूढ़ी पृथ्वी को प्राकृतिक संसाधनों के अत्यधिक दोहन एवं बढ़ते हुए पर्यावरण प्रदूषण का दुख हैं। 

हमारें इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद। अगर आपको इससे कोई मदत मिली हो तो कमेंट जरूर करें और साथ ही अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। अगर आप मुझसे जुड़ना चाहते है तो निचे दिए गए link को follow जोर करें।
  • Facebook
  • Instagram
  • YouTube
  • Home

Post a Comment

Previous Post Next Post

Offered

Offered